24 जून 2017

भीलवाडा जेल मे बंदियो रोजेदारों के लिए इफ्तार व अन्य बंदियो मे फल वितरण


कल राष्ट्रीय बिजली कर्मचारी मजदूर संघ इंटक भीलवाडा, व महिला इंटक भीलवाडा की तरफ से जिला कारागार भीलवाड़ा मे जेल उप-अधीक्षक श्रीमति सुमन मालीवाल जी के सानिध्य मे सांप्रदायिक व कौमी एकता की भावना से जेल मे बंद रोजेदारों के लिए रोजा इफ्तार कार्यक्रम रखा गया है, व अन्य सभी बंदियो को भी फल वितरण किए गए | 
जिसमे इंटक के प्रदेश मंत्री श्री सुरेश चन्द्र श्रीमाली (एडवोकेट), विधुत विभाग के एईएन श्री धर्मराज जी बैरवा, जिला इंटक के वरिष्ठ उपाध्यक्ष व बिजली कर्मचारी मजदूर संघ इंटक के जिला अध्यक्ष श्री पुरुषोत्तम दत्त शर्मा, संरक्षक श्री जाकिर खान, महिला इंटक जिला अध्यक्ष सुश्री प्रीति शर्मा (एडवोकेट), सुल्ताना परवीन, मीडिया प्रभारी ओम वैष्णव, मुन्ना भाई, ओम चौहान, कन्हेया खंडेलवाल, मुश्ताक, फिरोज खान, यासीन, राधेश्याम रेगर,पूरन जी,खेमराज जी,अनिलजी व अन्य कार्यकर्ताओ की मौजूदगी मे संपन्न हुआ |

29 मई 2017


अजेमर विद्धुत वितरण निगम लिमिटेड के आरजिया ग्राम मे कार्यरत कर्मचारी लाईनमेन उदयलाल दारोगा पर गाँव के सरपंच ने साजिश करके जान से मारने की नियत से जानलेवा हमला कर दिया, जिस से उदय लाल का सर फट गया, ओर उसे गंभीर हालत मे महात्मा गांधी अस्पताल मे भर्ती कराया गया, सूचना मिलते ही राष्ट्रीय विद्धुत मंडल कर्मचारी संघ ( इंटक ) के जिलाध्यक्ष  पुरुषोत्तम दत्त शर्मा, जाकिर खान, फिरोज भाई, महिला इंटक की प्रीति शर्मा, ओम  वैष्णव ने तुरंत पहुँच कर मामले की जानकारी लेकर उच्च अधिकारियों से बात की, मामले की जानकारी मिलने पर कई कर्मचारी अस्पताल मे एकत्रित हो गए, कर्मचारियो मे घटना को लेकर रोष व्याप्त हो गया,  

 जिलाध्यक्ष शर्मा ने उसी वक़्त अधिकारियों को मोके पर बुलाया, एंव उनसे एफ़आईआर दर्ज करवाने के लिए कहा, ओर मामले मे लीपापोती करने पर आंदोलन की चेतावनी दी, उसके बाद सभी कर्मचारी एकत्रित होकर एसई सुशील सिन्हा से मिले ओर उन्हे मामले जानकारी देकर कर्मचारियो की सुरक्षा के मामले को गंभीरता से लेने के लिए कहा, 

12 फ़रवरी 2014

देश की प्रतिभाओ को मरवाती रही हैं विदेशी सरकारे खास तौर से अमेरिका.....

देश की कई प्रतिभाओ को मरवाने में अमेरिकी सरकार शुरू से लिप्त रही हैं, जिसकी शुरुआत देश के पहले परमाणु वैज्ञानिक डा. होमी जहाँगीर भाभा से हुयी थी, जिन्होंने देश का पहला परमाणु बिजलीघर "रावतभाटा" राजस्थान में बना कर एक नए युग की शुरुआत देश में की थी, अब भी वक्त हैं संभल जाओ .....
एयर इंडिया उड़ान 101 (अंग्रेज़ी: Air India Flight 101) बॉम्बे से लंदन के लिए निर्धारित एयर इंडिया की यात्री उड़ान थी जो दुर्घटनावश 24 जनवरी 1966 को फ़्रांस में मोंट ब्लाँक पहाड़ से टकरा गई थी। दुर्घटना में कर्मीदल के 11 सदस्यों के साथ-साथ सभी 106 यात्रियों की मृत्यु हो गई थी। इसी विमान दुर्घटना में भारतीय परमाणु वैज्ञानिक होमी जहांगीर भाभा की मृत्यु हुई थी।

दुर्घटना

एयर इंडिया फ़्लाइट 101 बॉम्बे (अब मुम्बई) से लंदन के लिए निर्धारित यात्री उड़ान थी और दुर्घटना वाले दिन बोईंग 707 द्वारा संचालित की जा रही थी। इसका पंजीकरण वी॰टी॰-डी॰एम॰एन॰ (VT-DMN) और नाम कंचनजंगा था। बॉम्बे से उड़ान भरने के पश्चात यह अपने दो निर्धारित ठहरावों, दिल्ली और बेरूत, में रुकने के बाद जिनेवा की तरफ़ जा रही थी। जहाज के पायलट को ऐसा लगा कि वह मोंट ब्लाँक को पार कर चुका है और इसी गलतफ़हमी में उसने जहाज की ऊँचाई कम करनी शुरू कर दी और मोंट ब्लाँक से विमान की टक्कर हो गई। विमान विध्वंस हो गया और सभी 106 यात्रियों और 11 चालक दल के सदस्यों की दुर्घटना में मृत्यु हो गई। यात्रियों में भारतीय वैज्ञानिक और परमाणु ऊर्जा आयोग के अध्यक्ष होमी जहांगीर भाभा भी शामिल थे, जिनका निधन इसी दुर्घटना में हुआ था।

जाँच

दुर्घटना की जाँच में गठित कमीशन (आखिर दुनिया को बेवकूफ जो बनाना था) ने पाया कि विमान के पायलट की गलती के कारण यह दुर्घटना हुई। उसे नियंत्रक ने गलत जानकारी दी, जिसके कारण पायलेट ने मोंट ब्लाँक से अपनी दूरी का गलत आकलन लगाया, और रडार नियंत्रक को यह सूचना दी। नियंत्रक ने जानबूझ कर या किसी के इशारे पर विमान की पहाड़ से सही दूरी की जगह गलत दुरी माप कर के पायलट को सूचित किया। पायलट ने सूचित की गई जानकारी को सही समझा और अनुमान लगाया कि वह मोंट ब्लाँक चोटी को पीछे छोड़ चुका है और उसने विमान की ऊँचाई कम करनी शुरू कर दी व विमान की चोटी से सीधी टक्कर हुई।

11 जनवरी 2014

केजरीवाल भारत में अमेरिकी हितों का नया मोहरा :- अमेरिका की असलियत.........

क्या आप जानते हैं कि ...
अमेरिका किस प्रकार अपने हितो के लिए किसी भी देश में अपना राजनैतिक आधार तैयार करता है ???? इतिहास देखिये |

ईराक में 70 के दशक में ईराक में अस्थिता का माहौल अमेरिका ने बनाया और शुन्य से एक नौजवान को, एक छात्र जीवन से उठाकर उसका टीवी के द्वारा प्रचार करवा कर रातों रात ईराक का हीरो बना दिया | जानते है उसका नाम क्या था ? उसका नाम था सद्दाम हुसैन जो की एक कोलेज का छात्र था, छात्र राजनीति में भाग लेता था, उसको अमेरिका ने इतना प्रसिद्ध करवा दिया की उसको रातों-रात "बाथ" पार्टी का अध्यक्ष तक बनवा दिया | और यही बाद में ईराक का राष्ट्रपति बना, जब वह अपने देश को आगे ले जाने की सोचने लगा तो अमेरिका हो अखरने लगा, और बाद में सब जानते है की अमेरिका ने उसके साथ-साथ उसके देश ईराक का क्या किया |
दूसरा उदाहरण है ओसामा-बिन-लादेन का जो की अफगानिस्तान में जब आया था, तो इंजिनियर का छात्र था, उस समय अफगानिस्तान में रुसी सेनाये थी, अमेरिका ने लादेन को सपोर्ट किया, उसको आधुनिक हथियार दिए, रुसी सेनाओं के खिलाफ लड़ने के लिए | जब रुसी सेनाये अफगानिस्तान छोड़ कर चली गयी, तो लादेन तालिबान की मदद से वहां का शासन चलाने लगा, जब उसने
अफगानिस्तान के लिए कुछ करना चाहा, और अमेरिको के हित में काम करने से मना कर दिया | तो लादेन और अफगानिस्तान का क्या हुआ यह भी पूरा विश्व जानता है |
मित्रो अमेरिका की निति ही यह है कि यदि किसी देश की सत्ता उसके हितों की जब अनदेखी शुरू कर देती है तो वह उसी देश में एक मसीहा का निर्माण करता है |
कमोबेस आज भारत में भी यही हो रहा है मोदी जी की भारत में बढती लोकप्रियता और स्वीकार्यता को देखते हुए और कोंग्रेस के पतन को देखते हुए उसमे फिर वही अपनी पुरानी नीति भारत के लिए अपनाई है, ताकि स्वदेशी का आन्दोलन चलाने वालों को कुचला जा सके, जिससे उसके देश की अर्थव्यवस्था चल सके,
 
इसके लिए उसने आज फिर अपना दांव भारत में खेला है, जिसे कोई भी टीवी प्रभावित भारत का नागरिक नहीं देख और समझ पा रहा है |
आज 2 साल पहले तक गुमनामी के अँधेरे में रहने वाले चेहरे को अपनी ख़ुफ़िया एजेंसी CIA के वैश्विक दलाल " फोर्ड फाउन्डेसन " के माध्यम से केजरीवाल को भारत (माफ़ करना विदेश) के बिकाऊ मिडिया के सहयोग से हीरो बना दिया, और भारत की जनता विश्व के अमेरिकी इतिहास से अनजान होकर राष्ट्रवादी शक्तियों के विरोध में लग गयी है यह निश्चय ही बहुत दुर्भाग्य पूर्ण है इसका दूरगामी प्रभाव बहुत ही विनाशकारी सिद्ध होगा |

9 जनवरी 2014

एक अपील सभी हिंदू,मुस्लिम,सिख्ख,ईसाई से पहले पूरी पोस्ट पढ़े .....

मोदी का विरोध सिर्फ आर्थिक कारणों से हो रहा है, न की सांप्रदायिक कारणों से ...... जब से अमेरिका यूरोप में यह संकेत गया है की मोदी के सत्ता में आने पर सरकारी नीतिया बदली जायेगी और भारत निर्मित स्वदेशीवस्तुओ के उत्पादन और उनके उपयोग पर भारत सरकार और देश की जनता द्वारा जोर दिया जायेगा, इसी कारण ये यूरोपीय और अमेरिकी देश मोदी का रास्ता रोकने के लिए मोदी विरोधी शक्तिओ को खूब प्रोत्साहन, और फंड दे रहे हैं. यदि भारत द्वारा सिर्फ १ साल तक विदेशी उत्पादों का बहिष्कार कर दिया जाये,  तो यूरोप का यूरो और अमेरिका का डॉलर, भारतीय रुपये के मुकाबले बहुत निचे आ जायेगे. सिर्फ यही नहीं, यूरोप और अमेरिका दुबारा मंदी की जकड में चला जायेगा, और अमेरिका यूरोप दोनों जगहों पर बेरोजगारी में बेतहाशा वृद्धि होगी, क्योकि तब भारत में सामान का उत्पादन होने से रोजगार भारत वालो को मिलेगा. 
आज के दिन भारत का सारा रोजगार चीन, अमेरिका और यूरोप चला गया है, क्योकि हम सब लोग बाहर देशो में बना सामान खरीद रहे हैं| गुजरात दंगे का प्रचार तो सिर्फ भारत की जनता को मुर्ख बनाने के लिए बार बार किया जाता है, विदेशियों द्वारा मोदी का विरोध का सिर्फ आर्थिक कारण है. भारत में स्विट्जरलैंड के 156 गुना लोग रहते हैं, और 121 करोड़ लोग दुनिया में सबसे बड़े ग्राहक है घटिया विदेशी उत्पादों के. आज भारत में 5000 विदेशी कंपनिया 27 लाख करोड़ का बिजिनेस करके, हर साल 17 लाख करोड़ रुपये को डालर में बदलकर अपने देश ले जाती है, जिससे रुपये निचे जा रहा है. मोदी द्वारा सत्ता में आने के बाद अर्थक्रान्ति प्रस्ताव के लागू करने की भनक भी अमेरिका को लग चुकी है, जो भारत के लिए अमेरिका की कीमत कम कर देगा. 
 मोदी और डॉ.स्वामी ने बीजेपी सरकार आने पर डालर का भाव 5 साल में 21 रुपये और 10 साल में 10/- रुपये तक लाने की योजना पर सोच रहे हैं. यदि डालर 10 रुपये हो जाये तो भारत का 46 लाख करोड़ का कर्जा सिर्फ 7 लाख करोड़ ही रह जायेगा जिसे हम एक झटके में दे सकते हैं. 2013 के बजट 17 लाख करोड़ के बजट में से 5.35 लाख करोड़ सिर्फ कर्ज की किश्त देने में ही चला गया, जो पुरे बजट का करीब एक तिहाई है सोचो भारत विकास कैसे करेगा. अमेरिका मोदी को किसी भी हालत में PM बनता नहीं देखना चाहता है क्योकि मोदी के पीछे सभी राष्ट्रवादी खड़े हैं. आने वाले समय में मिडिया मोदी को और भी अनदेखा करेगा, और कजरी गिरोह को फोकस करके मोदी की राह रोकने की योजना पर काम करेगा.
मेरी सभी हिंदुस्तानियों हिंदू, मुस्लिम, सिख्ख,ईसाई भाई और उनके परिवार के अन्य सदस्यों से निवेदन और गुजारिश हैं, की इस बार आपके लोकसभा चुनाव में चाहे कोई भी भाजपा की तरफ से खड़ा हो, उसे वोट डे कर देश का विकास तो करने में सहयोगी बने ही साथ ही देश के विकास करने पर आपका विकास अपने आप हो जाएगा |  

4 जनवरी 2014

झाड़ू सिर्फ जनता को बेवकूफ बना, वोट बटोरने के लिए हैं ............

जनता की राय लेने की नौटंकी करने वाले केजरीवाल जरा ये भी बताएं कि क्या उन्होंने --
१. आम आदमी पार्टी के गठन से पहले दिल्ली की जनता की राय ली थी?
२. इस पार्टी का संयोजक बनते समय जनता की राय ली थी?
३. अपने मंच से भारतमाता का चित्र हटाते समय जनता की राय ली थी?
४. अपनी पार्टी में दायित्व वितरण के समय जनता की राय ली थी?
५. इमाम बुखारी की चौखट पर माथा रगड़ने से पहले जनता की राय ली थी?
६. तौकीर रज़ा के दर पर भीख मांगने से पहले जनता की राय ली थी?
७. रोडीज छाप रघु राजीव को अपनी पार्टी के प्रचार में शामिल करने से पहले जनता की राय ली थी?
८. बालीवुड के नौटंकीबाजों द्वारा जंतर मंतर पर पार्टी का प्रचार कराने से पहले जनता की राय ली थी?
९. मोदी को भ्रष्ट घोषित कर गुजरात में उनके खिलाफ चुनाव लड़ने की घोषणा से पहले जनता की राय ली थी?
१०. दिल्ली में केजरी और केंद्र में मोदी का भ्रम फ़ैलाने के बाद इस से पलटने से पहले जनता की राय ली थी?
नौटंकीबाज ! जब अब तक इतना कुछ करने से पहले जनता को ठेंगे पर रखा था तो
अब जनता से पूछने का ड्रामा क्यों? कितना और बेवकूफ बनाओगे जनता को ? और ये जनता भी कब तक खुद बेवकूफ बनेगी ? भारत में एक कहावत हैं, जब तक देश में चूतिये हैं तब तक अक्लमंद भूखे नही रहेंगे" शायद देश की जनता खुद को चूतिये साबित करने पर तुली हैं |  

1 जनवरी 2014

बेवकूफ बनती जनता और मजे लेता "केजरीवाल" उर्फ "नटवरलाल"............

देश को बेवकूफ बना रहे आप पार्टी के नेता मि. "नटवरलाल" को देश का मिडिया जगत  "आम-आदमी आम-आदमी" कह कर बेचारे असली आम आदमी का अच्छा मजाक कर रहे है| क्या देश में आम आदमी घर से ऑफिस जाता है तब न्यूज चेनलो के दर्जनो केमरे कवर करने के लिए साथ साथ चलते है ? केजरीवाल को खांसी या बुखार होता है, तो न्यूज में ब्रेकिंग न्यूज़ बनती है, क्या किसी आम आदमी को 24*7 घंटे कवर किया जाता है ? ऊपर से नटवरलाल द्वारा कहा जाता है की कोई सुरक्षा नहीं लेंगे, लेकिन पुलिस सिविल ड्रेस में सीक्रेट सुरक्षा देती है, जिसपर सामान्य सुरक्षा से 5 गुना ज्यादा खर्चा आता है| केजरीवाल उर्फ़ नटवरलाल की पल पल कि गतिविधि को कवर करने वाली मीडिया केजरीवाल को "आम-आदमी" कैसे कह सकते है, बल्कि ऐसा कवरेज तो "ख़ास-आदमी" को मिलता है, अगर देश में आपके आसपास ऐसा आम आदमी हो जिसे ये सब सुविधाए मिलती हैं, तो हमारा भ्रम दूर करने की कृपा कराये |